श्रीनगर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2024 के लिए तैयारियाँ जोरों पर

घर / श्रीनगर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2024 के लिए तैयारियाँ जोरों पर
श्रीनगर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2024 के लिए तैयारियाँ जोरों पर
19 जून 2024 0 टिप्पणि राहुल तनेजा

श्रीनगर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए भव्य आयोजन की तैयारी

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में इस बार का अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस काफी विशेष रहने वाला है। 21 जून 2024 को आयोजित हो रहे इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भागीदारी की संभावना ने आयोजन को और भी महत्वपूर्ण बना दिया है। आयुष मंत्रालय और जम्मू-कश्मीर प्रशासन के संयुक्त प्रयास से इस कार्यक्रम की भव्य तैयारी की जा रही है।

आयोजन की विशेषता

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का उद्देश्य योग के शारीरिक और मानसिक लाभों को विश्वभर में फैलाना है। इस जगरूकता अभियान के तहत श्रीनगर में एक भव्य आयोजन की योजना बनाई गई है, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं योग सत्र का नेतृत्व करेंगे। स्थानीय प्रशासन ने इस आयोजन के लिए एक भव्य मंच तैयार किया है और हजारों प्रतिभागियों के लिए बैठक की व्यवस्था की गई है। साथ ही, सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी किए गए हैं।

स्थानिय प्रशासन की भूमिका

श्रीनगर प्रशासन ने आयोजन को सफल बनाने के लिए सभी तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। आयुष मंत्रालय के साथ मिलकर प्रशासन ने आयोजन स्थल पर अधिक से अधिक लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न समूहों और संगठनों को जोड़ने का काम किया है। इसके साथ ही, योग सत्र के लिए विशिष्ट ट्रेनर और योगाचार्यों को भी शामिल किया जा रहा है जिससे योग का सही ज्ञान लोगों तक पहुंचाया जा सके।

आयोजन की सुरक्षा व्यवस्था

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भागीदारी के कारण सुरक्षा इंतजामों में कोई कमी नहीं होगी। प्रशासन ने सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर एक विस्तृत सुरक्षा योजना बनाई है। आयोजन स्थल के चारों ओर सुरक्षा घेरा बनाया जाएगा और हर व्यक्ति की जांच सुनिश्चित की जाएगी। साथ ही, विभिन्न स्थानों पर सीसीटीवी कैमरों की व्यवस्था भी की जा रही है।

योग के लाभ और प्रचार

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य उद्देश्य योग के फायदों को जन-जन तक पहुंचाना है। योग न केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बल्कि मानसिक शांति के लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण है। योग के माध्यम से तनाव कम करने, मन को शांति देने और शरीर को फिट रखने में मदद मिलती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा से ही योग के बड़े समर्थक रहे हैं और अपनी विभिन्न यात्राओं और भाषणों में योग के लाभों पर जोर देते रहे हैं।

श्रीनगर की सांस्कृतिक धरोहर

इस आयोजन का एक और महत्वपूर्ण पहलू यह है कि श्रीनगर की सांस्कृतिक और पर्यटन क्षमता को प्रदर्शित करने का यह एक अच्छा अवसर है। श्रीनगर की प्राकृतिक सुंदरता, ऐतिहासिक धरोहर और समृद्ध संस्कृति को विश्वभर में प्रसारित करने का यह एक सुनहरा मौका है। इस आयोजन के माध्यम से लोग कश्मीर की खूबसूरती और यहां की सांस्कृतिक धरोहर से भी रूबरू हो सकेंगे।

स्थानीय जनता का उत्साह

श्रीनगर के लोगों में इस आयोजन को लेकर बहुत ही जोश और उत्साह है। लोग पंजीकरण करवा रहे हैं और योग सत्र में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं। विभिन्न स्थानों पर योग अभ्यास के कैंप भी लगाये जा रहे हैं ताकि लोग पहले से ही तैयार हो सकें। आयोजन की तैयारी के दौरान प्रशासन का समर्थन भी मिलता रहा है, जिससे आयोजन की सफलता की संभावना बढ़ गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति और उनके द्वारा इस सत्र का नेतृत्व करने से यह आयोजन और भी विशेष बन जाएगा। यह न केवल योग के प्रति लोगों की रूचि को बढ़ावा देगा बल्कि विश्वभर में योग का महत्व और अधिक व्यापक रूप से प्रसारित हो सकेगा।

राहुल तनेजा

राहुल तनेजा

मैं एक समाचार संवाददाता हूं जो दैनिक समाचार के बारे में लिखता है, विशेषकर भारतीय राजनीति, सामाजिक मुद्दे और आर्थिक विकास पर। मेरा मानना है कि सूचना की ताकत लोगों को सशक्त कर सकती है।

एक टिप्पणी लिखें