ब्रिटेन में चुनाव हुए शुरू; ऋषि सुनक के भविष्य पर टिकी निगाहें

घर / ब्रिटेन में चुनाव हुए शुरू; ऋषि सुनक के भविष्य पर टिकी निगाहें
ब्रिटेन में चुनाव हुए शुरू; ऋषि सुनक के भविष्य पर टिकी निगाहें
4 जुलाई 2024 0 टिप्पणि राहुल तनेजा

ब्रिटेन चुनाव: ऋषि सुनक के भविष्य की बड़ी परीक्षा

ब्रिटेन में आम चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, जहां कुल 40,000 पोलिंग बूथों पर करोड़ों वोटर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। प्रधानमंत्री ऋषि सुनक, जिनकी उम्र 44 साल है, अपनी कंजर्वेटिव पार्टी के 14 साल के शासन के बाद मतदाताओं की नाराजगी का सामना कर रहे हैं। यह चुनाव उनके और उनकी पार्टी के भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

कंजर्वेटिव पार्टी की तुलना में लेबर पार्टी की बढ़त देखने को मिल रही है। लेबर पार्टी का नेतृत्व 61 साल के कीर स्टारमर कर रहे हैं, जो अपने चुनावी अभियान के दौरान जनता में अपनी पकड़ बनाने में सफल रहे हैं। हालांकि, चुनाव के दिन मतदान कम होने की संभावना जताई जा रही है, जैसा कि 2019 के आम चुनाव में 67% मतदान हुआ था।

सुनक और स्टारमर: दो अलग-अलग राहें

ऋषि सुनक का संदेश मतदाताओं के लिए यह है कि वे 'टैक्स बढ़ाने' वाली लेबर पार्टी के बहुमत को रोके। जबकि कीर स्टारमर मतदाताओं को चेतावनी देते हैं कि 'काम अब भी बाकी है' और उनसे आत्मसंतोष ना बरतने की अपील कर रहे हैं।

चुनावी विश्लेषकों का मानना है कि इस बार कंजर्वेटिव पार्टी केवल 53 से 150 सीटें ही जीत पाएगी जबकि लेबर पार्टी बड़ी जीत के साथ सामने आ सकती है। अगर यह परियोजनाएं सही साबित होती हैं तो स्टारमर 2010 के बाद से पहले लेबर पार्टी के प्रधानमंत्री बन सकते हैं, जब गॉर्डन ब्राउन इस पद पर थे।

यह चुनाव ऋषि सुनक के लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह पहला मौका है जब उनका और कीर स्टारमर दोनों का असली टेस्ट हो रहा है। सुनक अक्टूबर 2022 में ब्रिटेन के पहले भारतीय मूल के प्रधानमंत्री बने थे। वहीं, स्टारमर ने 2019 में जेरेमी कॉर्बिन की हार के बाद पार्टी का नेतृत्व संभाला था।

ब्रिटेन में आम चुनाव पांच साल की अवधि के बाद होते हैं। ऋषि सुनक ने इस बार बजाए हमेशा की तरह सर्दियों में चुनाव करने के, गर्मियों में 4 जुलाई के लिए इसे प्लान किया। चुनाव के नतीजे न केवल ऋषि सुनक के प्रधानमंत्री और कंजर्वेटिव पार्टी के नेता के रूप में भविष्य को प्रभावित करेंगे, बल्कि यह भी तय करेंगे कि ब्रिटेन की आगामी नीतियां और दिशा किस तरह से निर्धारित होंगी।

चुनावी माहौल में महत्वपूर्ण मुद्दों का प्रभाव

इन चुनावों में कई महत्वपूर्ण मुद्दे भी प्रभावी होंगे। जनता की मुख्य चिंताएं आर्थिक स्थिति, स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता, और ब्रेक्जिट के परिणाम से संबंधित हैं। ऋषि सुनक और कीर स्टारमर दोनों इन मुद्दों पर अपने-अपने दृष्टिकोण और योजनाएं प्रस्तुत कर रहे हैं।

कंजर्वेटिव पार्टी के नेतृत्व में पिछले 14 सालों में कुछ महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की गई हैं, लेकिन अब जनता का धैर्य टूटता नजर आ रहा है। सुनक की आर्थिक नीतियों और ब्रेक्जिट के प्रबंधन को लेकर भी कई सवाल उठ रहे हैं। दूसरी तरफ, लेबर पार्टी ने अपने घोषणापत्र में सरकारी सेवाओं में सुधार लाने और सामाजिक न्याय को प्राथमिकता देने का वादा किया है।

चुनावी गणित और संभावनाएं

चुनावी गणित और संभावनाएं

मतदान खत्म होने के बाद अब सबकी निगाहें चुनावी परिणामों पर टिक गई हैं। हर कोई जानना चाहता है कि आखिरकार आने वाले पांच सालों तक ब्रिटेन की बागडोर किसके हाथ में होगी। राजनीतिक पंडितों का मानना है कि लेबर पार्टी को इस बार बड़ी जीत हासिल हो सकती है, जिससे कीर स्टारमर प्रधानमंत्री बन सकते हैं।

हालांकि, यह देखने वाली बात होगी कि क्या जनता कंजर्वेटिव पार्टी के उम्मीदवारों को उनके काम के लिए पुरस्कृत करती है या नहीं। क्या ऋषि सुनक जनता के दिल में जगह बना पाएंगे या फिर कीर स्टारमर की वादा-फैली योजनाओं की ओर लोग आकर्षित होंगे। ब्रिटेन की राजनीति के इस डेटा में कमाल की उतार-चढ़ाव देखी जा सकती है।

चुनाव परिणाम की प्रतीक्षा

इस चुनाव के परिणाम का असर न केवल ब्रिटेन की आगामी नीतियों पर पड़ेगा, बल्कि यह भी निर्धारित करेगा कि यूरोप और दुनिया के समक्ष ब्रिटेन का स्थान क्या होगा। इन चुनावी नतीजों के बाद आने वाले दिनों में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाएंगे जिनका प्रभाव विभिन्न क्षेत्रों में देखा जा सकेगा।

चुनावी माहौल में तनाव और उत्साह दोनों का मिश्रण देखने को मिल रहा है। जनता का फैसला केवल राजनीतिक दलों के लिए ही नहीं, बल्कि देश के भविष्य के लिए भी महत्वपूर्ण है। आम चुनाव के रिजल्ट आने के बाद पता चलेगा कि किसकी रणनीति कामयाब हुई और किसकी राह में चुनौतियां आईं।

यह देखा जाना बाकी है कि देश के आम चुनाव का यह खेल किस प्रकार खत्म होता है, लेकिन एक बात निश्चित है कि इस बार जनता का निर्णय ब्रिटेन की राजनीति में एक नया अध्याय जोड़ने वाला है। इस महत्वपूर्ण चुनाव में दिए गए हर वोट का असर आने वाले कई वर्षों तक देखने को मिलेगा।

राहुल तनेजा

राहुल तनेजा

मैं एक समाचार संवाददाता हूं जो दैनिक समाचार के बारे में लिखता है, विशेषकर भारतीय राजनीति, सामाजिक मुद्दे और आर्थिक विकास पर। मेरा मानना है कि सूचना की ताकत लोगों को सशक्त कर सकती है।

एक टिप्पणी लिखें